Breaking news

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 मई को हैदराबाद और चेन्नई का दौरा करेंगे। वे चेन्नई में 31,400 करोड़ रुपए से अधिक की 11 परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे और हैदराबाद में इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (ISB) के 20 साल पूरे होने के समारोह में भाग लेंगे।   
  • झारखंड: IAS पूजा सिंघल मामले में प्रवर्तन निदेशालय(ED) ने रांची में छह ठिकानों पर छापेमारी की।   
  • भारत में पिछले 24 घंटे में #COVID19 के 1,675 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 1,635 लोग डिस्चार्ज हुए और 31 लोगों की मृत्यु दर्ज़ की गई। कुल सक्रिय मामले: 14,841 कुल पॉजिटिविटी दर: 0.41%   
  • वाराणसी कोर्ट में काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद मामले की सुनवाई चल रही है। पुलिस ने बताया कि 19 काउंसिल और 4 याचिकाकर्ताओं सहित केवल 23 लोगों को अदालत कक्ष के अंदर जाने की अनुमति है।   
  • भारत में पिछले 24 घंटे में #COVID19 के 2,022 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 2,099 लोग डिस्चार्ज हुए और 46 लोगों की मृत्यु दर्ज़ की गई। कुल सक्रिय मामले: 14,832 कुल पॉजिटिविटी दर: 0.69%   

मुंबई

अर्थव्यवस्था को अभी और समर्थन की जरूरत, बजट में राजकोषीय मजबूती पर जोर नहीं दिया जाए : एसबीआई

मुंबई : देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (भारतीय स्टेट बैंक) के अर्थशास्त्रियों ने सरकार से बजट में महामारी से प्रभावित अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन जारी रखने और राजकोषीय मजबूती पर बहुत ज्यादा ध्यान नहीं देने का आग्रह किया है। उनका कहना है कि पुनरुद्धार को सतत बनाने के लिये अर्थव्यवस्था को स्थिरता प्रदान करने को लेकर और उपाय करने की अभी जरूरत है।

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के मुख्य अर्थशास्त्री सौम्य कांति घोष ने बुधवार को बजट पूर्व एक रिपोर्ट में कहा कि नये वित्त वर्ष की शुरुआत का बेहतर तरीका मौजूदा वित्त वर्ष में एलआईसी की शेयर बिक्री को पूरा करना होगा। यह काफी अधिक दबाव वाले बही-खाते को दुरुस्त करने में मददगार होगा।

‘‘ इससे वित्त वर्ष 2022-23 में राजकोषीय घाटा 6.3 प्रतिशत के निचले स्तर पर लाने में मदद मिलेगी, क्योंकि नये वित्त वर्ष की शुरुआत सरकारी खजाने में कम-से-कम तीन लाख करोड़ रुपये के नकद अधिशेष के साथ होगी।’’

उन्होंने कहा कि बजट में राजकोषीय घाटे को 0.3 से 0.4 प्रतिशत से अधिक की कमी पर ध्यान नहीं देना चाहिए क्योंकि अर्थव्यवस्था के ज्यादातर क्षेत्रों को अभी भी समर्थन की जरूरत है।

घोष ने कहा कि बजट में राजकोषीय मजबूती पर धीरे-धीरे कदम बढ़ाने की व्यवस्था होनी चाहिए। वित्त वर्ष 2022-23 के लिये चालू वित्त वर्ष के मुकाबले राजकोषीय घाटे में कमी 0.3 से 0.4 प्रतिशत तक सीमित रहनी चाहिए।

उन्होंने इस समय संपत्ति कर या अन्य कर लगाये जाने को लेकर भी आगाह करते हुए कहा कि अगर ऐसा होता है, इससे लाभ के बजाय नुकसान ज्यादा होगा।

दिल्ली

डीटीसी के बेड़े में सीसीटीवी कैमरे और आपात बटन से लैस 150 इलेक्ट्रिक बसे शामिल

डीटीसी के बेड़े में सीसीटीवी कैमरे और आपात बटन से लैस 150 इलेक्ट्रिक बसे शामिल

डीटीसी के बेड़े में सीसीटीवी कैमरे और आपात बटन से लैस 150 इलेक्ट्रिक बसे शामिल

दिल्ली

नारीवाद कोई पश्चिमी अवधारणा नहीं, भारतीय सभ्यता में अंतर्निहित: जेएनयू कुलपति

नारीवाद कोई पश्चिमी अवधारणा नहीं, भारतीय सभ्यता में अंतर्निहित: जेएनयू कुलपति

नारीवाद कोई पश्चिमी अवधारणा नहीं, भारतीय सभ्यता में अंतर्निहित: जेएनयू कुलपति

देश

बाइडन ने कोविड महामारी से सफलतापूर्वक निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की: अधिकारी

बाइडन ने कोविड महामारी से सफलतापूर्वक निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की: अधिकारी

बाइडन ने कोविड महामारी से सफलतापूर्वक निपटने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की: अधिकारी

दिल्ली

मेरे खिलाफ लगे आरोप हास्यास्पद, राजनीतिक प्रतिशोध के तहत हो रही है कार्रवाई: कार्ति चिदंबरम

मेरे खिलाफ लगे आरोप हास्यास्पद, राजनीतिक प्रतिशोध के तहत हो रही है कार्रवाई: कार्ति चिदंबरम

मेरे खिलाफ लगे आरोप हास्यास्पद, राजनीतिक प्रतिशोध के तहत हो रही है कार्रवाई: कार्ति चिदंबरम

जम्मू और कश्मीर

भाजपा ने कश्मीरी पंडितों का सिर्फ शोषण किया है : महबूबा

भाजपा ने कश्मीरी पंडितों का सिर्फ शोषण किया है : महबूबा

भाजपा ने कश्मीरी पंडितों का सिर्फ शोषण किया है : महबूबा


trending