Breaking news

  • महाराष्ट्र: नागपुर जिले में पिछले 24 घंटों में #COVID19 के 5,131 नए मामले सामने आए हैं। 2,837 लोग डिस्चार्ज हुए और 65 लोगों की मृत्यु दर्ज़ की गई है।   
  • दीदी आप बंगाल के लोगों की भाग्य विधाता नहीं हैं, बंगाल के लोग आपकी जागीर नहीं हैं। बंगाल के लोगों ने तय कर दिया है कि आपको जाना ही होगा। बंगाल की जनता आपको निकाल कर ही दम लेने वाली है। आप अकेली नहीं जाएंगी, आपके पूरे गिरोह को जनता हटाने वाली है: सिलीगुड़ी में प्रधानमंत्री   
  • भारत में पिछले 24 घंटे में #COVID19 के 1,45,384 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1,32,05,926 हुई। 780 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1,68,436 हो गई है। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 10,46,631 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,19,90,859 है।   
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के मतदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मतदाताओं, खासकर युवाओं और महिलाओं से रिकॉर्ड संख्या में मतदान करने की अपील की   
  • पश्चिम बंगाल: राज्य विधानसभा चुनाव के चौथे चरण के लिए मतदान शुरू हो गया है। अलीपुरदौर के पुलिंग बूथ 195, 196 और 196-A पर वोट डालने के लिए लोग लाइन में खड़े दिखे।   

देश

गुजरात में अल्ट्राटेक सीमेंट को चूना-पत्थर खोदने को मंजूरी के खिलाफ अपील पर केंद्र, अन्य को नोटिस

नयी दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने अल्ट्राटेक सीमेंट को गुजरात के भावनगर जिले में चूना पत्थर के खनन की पर्यावरण विभाग की मंजूरी दिए जाने से जुड़े मामले में केंद्र सरकार और अन्य पक्षों को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब तलब किया है।

राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) ने इस परियोजना को पर्यावरणीय मंजूरी दिए जाने के खिलाफ दायर याचिका खारिज कर दी थी। हरित न्यायाधिकरण के निर्णय के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में अपील दायर की गई है।

इस अपील पर न्यायाधीश न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एमआर शाह की पीठ ने केंद्र सरकार के पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, अल्ट्राटेक सीमेंट, ऊंचा कोटड़ा ग्राम पंचायत और अन्य को नोटिस जारी किए हैं। पीठ ने कहा, ‘‘नोटिस जारी किया जाए। जवाबी हलफनामा 4 सप्ताह के अंदर दाखिल किया जाए। जवाब के खिलाफ कोई हलफनामा दायर किया जाना है तो उसे उसके बाद 4 सप्ताह के अंदर दाखिल किया जाए और इस सिविल अपील को 8 सप्ताह बाद सूचीबद्ध किया जाए।’’

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण ने 24 सितंबर 2020 को याचिकाकर्ताओं द्वारा दायर अपील को खारिज कर दिया था।

न्यायाधिकरण ने अपने निर्णय में कहा था कि परियोजना के समर्थकों ने दस्तावेजों के संदर्भ में व्याख्या प्रस्तुत कर दी है कि संबंधित सांविधिक प्राधिकरण के माध्यम से सार्वजनिक नोटिस जारी किए गए थे और परियोजना को उस क्षेत्र की पंचायत का समर्थन प्राप्त है।

एनजीटी ने कहा था कि खनन योजना में संशोधन के बाद जहां तक नई सार्वजनिक सुनवाई का सवाल है तो विशेषज्ञ आकलन समिति ने स्पष्ट किया कहा था कि उसकी जरूरत नहीं थी, क्योंकि खनन का क्षेत्र 5% कम कर दिया गया था और सभी संबद्ध पक्षों की चिंताओं का समुचित निराकरण किया जा चुका था ।

याचिकाकर्ताओं की ओर से प्रस्तुत वरिष्ठ वकील संजय पारीक ने उच्चतम न्यायालय की पीठ में कहा कि राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण का आदेश दर्शाता है कि पर्यावरणीय सवीकृति पर उठायी गयी आपत्तियों पर स्वतंत्र मस्तिष्क से सोचा विचार नहीं किया गया।

उच्चतम न्यायालय में दायर अपील में गाभाभाई देवाभाई चौहान और अन्य ने दावा किया है कि वे उन तीन गावों- कलसार, दयाल और कोटड़ा के हैं, जहां सालाना 20.14 लाख टन चूना-पत्थर खनन की यह परियोजना शुरू की जा रही है। उनका कहना है कि इस परियोजना को कोई सार्थक सार्वजनिक सुनवायी किए ही पर्यावरण एवं वन विभाग की मंजूरी दी ली गयी। उनका आरोप है कि मंजूरी देते हुए कई महत्वपूर्ण पहलुओं की अनदेखी की गयी।
 

पश्चिम बंगाल

बंगाल ममता बनर्जी को प्यार करता है: डेरेक ओ ब्रायन

बंगाल ममता बनर्जी को प्यार करता है: डेरेक ओ ब्रायन

बंगाल ममता बनर्जी को प्यार करता है: डेरेक ओ ब्रायन

दिल्ली

कोविड-19: एक वर्ष बाद भारत में स्थिति और विकट, मामलों में बढ़ोतरी, वायरस के नये स्वरूप आये सामने

कोविड-19: एक वर्ष बाद भारत में स्थिति और विकट, मामलों में बढ़ोतरी, वायरस के नये स्वरूप आये सामने

कोविड-19: एक वर्ष बाद भारत में स्थिति और विकट, मामलों में बढ़ोतरी, वायरस के नये स्वरूप आये सामने

दिल्ली

ऑनलाइन विवाद समाधान से न्याय प्रक्रिया विकेंद्रित होगी : न्यायमूर्ति चंद्रचूड़

ऑनलाइन विवाद समाधान से न्याय प्रक्रिया विकेंद्रित होगी : न्यायमूर्ति चंद्रचूड़

ऑनलाइन विवाद समाधान से न्याय प्रक्रिया विकेंद्रित होगी : न्यायमूर्ति चंद्रचूड़

महाराष्ट्र

कोविड-19 को लेकर केंद्र-महाराष्ट्र को दोषारोपण में समय नहीं गंवाना चाहिए : उप मुख्यमंत्री

कोविड-19 को लेकर केंद्र-महाराष्ट्र को दोषारोपण में समय नहीं गंवाना चाहिए : उप मुख्यमंत्री

कोविड-19 को लेकर केंद्र-महाराष्ट्र को दोषारोपण में समय नहीं गंवाना चाहिए : उप मुख्यमंत्री

दिल्ली

बलरामपुर चीनी के बोर्ड ने नए डिस्टिलरी संयंत्र के लिए 425 करोड़ रुपये के संशोधित निवेश को मंजूरी दी

बलरामपुर चीनी के बोर्ड ने नए डिस्टिलरी संयंत्र के लिए 425 करोड़ रुपये के संशोधित निवेश को मंजूरी दी

बलरामपुर चीनी के बोर्ड ने नए डिस्टिलरी संयंत्र के लिए 425 करोड़ रुपये के संशोधित निवेश को मंजूरी दी


trending