Breaking news

  • पूरी दुनिया की नज़र 26 जनवरी के कार्यक्रम पर है। कुछ लोग सरकार की शह पर इस आंदोलन को उग्र करना चाहते हैं, हमारा ये आंदोलन नीतियों के खिलाफ है ना कि दिल्ली के खिलाफ। ऐसा प्रचार किया जा रहा है जैसे दिल्ली के साथ कोई युद्ध होने जा रहा हो: मंदीप नथवान, किसान संघर्ष समिति, हरियाणा   
  • उत्तर प्रदेश: अलीगढ़ में घने कोहरे की वजह से वाहन चालकों को परेशानी हो रही है। एक वाहन चालक ने बताया, "मैं रात 12 बजे से यहां खड़ा हूं। मैं नोएडा जा रहा था, कोहरा बहुत था इसलिए अलीगढ़ बाईपास पर रुक गया। रात में कुछ दिखाई ही नहीं दे रहा था।"   
  • भारत जैसे विशाल देश में दुनिया का सबसे बड़ा अभियान प्रधानमंत्री मोदी जी ने शुरू किया है, मैं तो उन्हें देवदूत के रूप में मानता हूं। मैं आज राम मनोहर लोहिया अस्पताल में गया। बहुत अच्छी व्यवस्था है: केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, वैक्सीनेशन ड्राइव पर   
  • आज वैक्सीनेशन की शुरूआत पूरे देश में हुई है। जिन लोगों का वैक्सीनेशन हुआ है, उसकी सफलता को देखकर स्वाभाविक है कि लोग वैक्सीनेशन कराएंगे। हमारे देश के वैज्ञानिक 4 और वैक्सीन लगभग तैयार कर चुके हैं: केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, लखनऊ में   
  • मुझे खुशी है कि सरकार ने वैक्सीन का कार्यक्रम शुरू कर दिया है। अब वैक्सीन आ गई है। सवाल ये है कि यह गरीबों तक कब पहुंचेगी और गरीबों को मुफ्त में देंगे कि नहीं देंगे। हम अपनी सरकार से जानना चाहते हैं कि इनका कार्यक्रम क्या है, सभी लोगों को कब तक वैक्सीन लग जाएगी: अखिलेश यादव, SP   

देश

कोविड प्रभावित क्षेत्रों से बाहर आंगनवाड़ी केन्द्र पुन: खोलने पर निर्णय लें राज्य : न्यायालय

नयी दिल्ली:उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को निर्देश दिया कि पिछले साल कोविड-19 महामारी के दौरान बंद किये गये आंगनवाड़ी केन्द्र, जो कंटेनमेन्ट जोन के बाहर हैं, उन्हें फिर से खोलने के बारे में 31 जनवरी तक फैसला लें।

शीर्ष अदालत ने कहा कि अपने नागरिकों की जिंदगी और उनके अच्छे स्वास्थ की रक्षा करना सरकार का प्रथम कर्तव्य और संवैधानिक दायित्व है। इसके साथ ही न्यायालय ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून, 2013 के तहत सभी गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली मांओं और कुपोषण से ग्रस्त बच्चों के लिये पोषक तत्व उपलब्ध हों।

न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति एम आर शाह की पीठ ने निर्देश दिया कि सभी राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश आंगनवाड़ी केन्द्रों की निगरानी और उनके पर्यवेक्षण के बारे में आवश्यक आदेश जारी करेंगे ताकि प्रत्येक जिले में सभी लाभार्थियों तक लाभ पहुंचने और शिकायतों के निदान की व्यवस्था सुनिश्चित हो।

पीठ ने कहा कि किसी भी राज्य या केन्द्र शासित प्रदेश में आंगनवाड़ी केन्द्र नहीं खोलने का निर्णय संबंधित राज्य के आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा ऐसा नहीं करने, विशेषकर कंटेनमेन्ट जोन के बाहर के इलाकों, के बारे निर्देश के बाद ही लिया जायेगाा।

आंगनवाड़ी केन्द्रों को बंद करने से उत्पन्न स्थिति के मामले में पीठ ने अपने 31 पेज के फैसले में कहा ,‘‘कंटेनमेन्ट जोन में स्थित आंगनवाड़ी केन्द्रों को कंटेनमेन्ट की स्थिति जारी रहने के दौरान नहीं खोला जायेगा।’’

पीठ ने कहा, ‘‘अपर्याप्त पोषित खाद्य सामग्री की आपूर्ति नागरिकों, खासकर बच्चों और महिलाओं के स्वास्थ्य को प्रभावित करेगी। इसलिए इससे संविधान के अनुच्छेद 21 में प्रदत्त स्वास्थ्य और गरिमा के साथ जीने के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन होगा।’’

न्यायालय ने अपने फैसले में इस तथ्य का भी जिक्र किया कि कुछ राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों ने अपने यहां आंगनवाड़ी केन्द्र पुन: खोल दिये हैं।

पीठ ने फैसले में कहा, ‘‘हमारा मानना है कि जब तक आंगनवाड़ी केन्द्र नहीं खोलने की कोई स्पष्ट वजह नहीं हो, सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को कंटेनमेन्ट जोन के बाहर स्थित सारे आंगनवाड़ी केन्द्रों को जल्द से जल्द कार्यशील बनाना चाहिए। सभी राज्य 31 जनवरी या इससे पहले स्थिति की समीक्षा करके इस बारे में सकारात्मक निर्णय लें बशर्ते किसी राज्य विशेष में इन केन्द्रों को 31 जनवरी से या उससे पहले खोलने के बारे में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का स्पष्ट निर्णय नहीं हो।’’

पीठ ने कहा, ‘‘बच्चे हमारी अगली पीढ़ी हैं और अगर हम बच्चों और महिलाओं को पोषक भोजन उपलब्ध नहीं करायेंगे तो इससे हमारी नयी पीढ़ी और अंतत: पूरा देश प्रभावित होगा। इसमें किसी को संदेह नहीं होगा कि बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं और अगर उन्हें पर्याप्त पोषक तत्व उपलब्ध कराने में किसी प्रकार की कंजूसी होती है, तो इससे भविष्य में पूरा देश उनकी क्षमताओं का लाभ उठाने से वंचित होगा।’’

पीठ ने अपने फैसले में इस तथ्य का भी जिक्र किया कि गृह मंत्रालय द्वारा पिछले साल 24 मार्च को कोविड-19 पर काबू पाने के लिये जारी आदेश के बाद इन आंगनवाड़ी केन्द्रों को बंद किया गया था।

न्यायालय ने कहा कि महिला और बाल विकास मंत्रालय ने पिछले साल 30 मार्च को निर्देश दिया था कि लाभार्थियों को उनके घर पर ही आवश्यक पोषक सामग्री उपलब्ध कराने के लिये आंगनवाड़ी/सहायकों की सेवाओं का उपयोग किया जाये।

न्यायालय ने इस तथ्य का भी संज्ञान लिया कि 11 नवंबर 2020 को महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में कंटेनमेन्ट जोन से बाहर स्वास्थ्य और सुरक्षा मानकों का पालन करने के बाद आंगनवाड़ी केन्द्रों में काम शुरू करने का प्रावधान था।

इसके साथ ही न्यायालय ने गृह मंत्रालय के पिछले साल 25 नवंबर के आदेश का भी जिक्र किया जिसके एक पैराग्राफ में 65 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्तियों, गर्भवती महिलाओं और 10 साल की उम्र से कम आयु के बच्चों को आवश्यक कार्यों के अलावा घर में रहने की सलाह दी गयी थी।

DON'T MISS

हमदाबाद, दो जून गुजरात में चक्रवाती तूफान निसर्ग

DON'T MISS

कमजोर मांग से एल्युमीनियम वायदा कीमतों में गिरावट

गुजरात

पीएम नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को जोड़ने वाली आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाई।

खेल जगत

सुंदर और ठाकुर ने संभाला मोर्चा, भारत के छह विकेट पर 253 रन

सुंदर और ठाकुर ने संभाला मोर्चा, भारत के छह विकेट पर 253 रन

सुंदर और ठाकुर ने संभाला मोर्चा, भारत के छह विकेट पर 253 रन

देश

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 15,144 नए मामले सामने आए

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 15,144 नए मामले सामने आए

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 15,144 नए मामले सामने आए

देश

आरसीईपी से प्रतिस्पर्धा करनी है, तो भारत को शुल्क घटाने होंगे : यूएसआईएसपीएफ

आरसीईपी से प्रतिस्पर्धा करनी है, तो भारत को शुल्क घटाने होंगे : यूएसआईएसपीएफ

आरसीईपी से प्रतिस्पर्धा करनी है, तो भारत को शुल्क घटाने होंगे : यूएसआईएसपीएफ

व्यापार

एफपीआई ने जनवरी के पहले पखवाड़े में भारतीय बाजारों में किया 14,866 करोड़ रुपये का निवेश

एफपीआई ने जनवरी के पहले पखवाड़े में भारतीय बाजारों में किया 14,866 करोड़ रुपये का निवेश

एफपीआई ने जनवरी के पहले पखवाड़े में भारतीय बाजारों में किया 14,866 करोड़ रुपये का निवेश


trending