Breaking news

  • गोवा: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नौसेना वायु स्टेशन INS हंस पहुंचे। केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाइक और नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह उनका स्वागत करने के लिए हवाई अड्डे पर मौजूद थे।   
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पूरे भारत में सभी राज्य बोर्डों के मूल्यांकन के लिए एक समान योजना नहीं हो सकती है। सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं कक्षा की परीक्षा रद्द करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए ऐसा आदेश पारित करने से इनकार किया।   
  • भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा जम्मू-कश्मीर के पार्टी नेताओं के साथ बैठक करने पार्टी मुख्यालय पहुंचे।   
  • कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा करने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बुलाई गई AICC महासचिवों और प्रदेश प्रभारियों की बैठक शुरू हुई।   
  • गुजरात: मान​हानि मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी सूरत कोर्ट पहुंचे।   

मुंबई

फिल्म निर्देशक बुद्धदेब दासगुप्ता के निधन पर प्रोसेनजीत, श्रीजीत और अन्य कलाकारों ने जताया शोक

मुंबई,: बांग्ला के प्रसिद्ध अभिनेता प्रोसेनजीत चटर्जी, फिल्मकार श्रीजीत मुखर्जी और अभिनेता राहुल बोस ने प्रख्यात फिल्मकार बुद्धदेब दासगुप्ता के निधन पर बृहस्पतिवार को उन्हें श्रद्धांजलि दी।

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता 77 वर्षीय निर्देशक पिछले कुछ समय से गुर्दे से संबंधित समस्याओं से जूझ रहे थे। उनके परिवार के सदस्यों ने बताया कि बृहस्पतिवार सुबह यहां अपने आवास में उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उनका निधन हो गया।

दासगुप्ता ने अपने करियर की शुरुआत एक कॉलेज में लेक्चरर के तौर पर की थी। बाद में कलकत्ता फिल्म सोसाइटी में सदस्य के तौर पर नामांकन के बाद वह 1970 के दशक में फिल्म निर्माण के क्षेत्र में उतरे।

उन्होंने अपनी पहली फीचर फिल्म ‘‘दूरात्वा” 1978 में बनाई थी और एक कवि-संगीतकार-निर्देशक के तौर पर अपनी छाप छोड़ी थी।

उससे पहले, उन्होंने लघु फिल्म ‘समायर काचे’ बनाई थी।

उनके निर्देशन में बनीं कुछ प्रसिद्ध फिल्मों में ‘नीम अन्नपूर्णा’, ‘गृहजुद्ध’, ‘बाघ बहादुर’, ‘तहादेर कथा’,‘चाराचर’, ‘लाल दर्जा’, ‘उत्तरा’, ‘स्वपनेर दिन’, ‘कालपुरुष’ और ‘जनाला’ शामिल है।

उन्होंने ‘अंधी गली’ और ‘अनवर का अजब किस्सा’ जैसी हिंदी फिल्मों का भी निर्देशन किया।

फिल्मकार के साथ 2004 की ड्रामा फिल्म “स्वपनेर दिन’’ और 2007 में आई “आमी, यासिन आर अमार मधुबाला” में काम कर चुके चटर्जी ने ट्विटर पर एक भावुक नोट लिखा।

अभिनेता ने कहा कि वह दासगुप्ता के निधन से बहुत दुखी हैं और उन्हें न सिर्फ भारतीय सिनेमा में बल्कि “अंतरराष्ट्रीय फिल्म जगत” में भी “चमकते नाम” के तौर पर याद किया।

चटर्जी ने बांग्ला में ट्वीट किया, “सौभाग्य से, मुझे उनके साथ दो फिल्में करने का मौका मिला और मैं कई फिल्मोत्सवों में उनके साथ गया यह जानने के लिए उनकी सिनेमा की अन्य शैलियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कितना सराहा जाता है..बुद्ध दा बेहतरीन इंसान थे।... अपने काम के जरिए हमेशा हमारे साथ रहें।”

मुखर्जी ने कहा कि दासगुप्ता की फिल्मों ने उनकी सिनेमाई स्मृति को आकार दिया है और उनकी त्रुटिहीन कहानी कहने की कला ने एक मजबूत प्रभाव छोड़ा है।

मुखर्जी को खासतौर पर दासगुप्ता की दो फिल्में - 1982 की “गृहजुद्ध” जिसकी पृष्ठभूमि 1970 के दशक के बंगाल में नक्सली आंदोलन की थी और 1989 की ड्रामा फिल्म “बाघ बहादुर’’ याद है जो ऐसे शख्स की कहानी थी जो खुद को एक बाघ के तौर पर चित्रित करता है और गांव में नृत्य करता है।

मुखर्जी ने लिखा,“यहां तक कि उनकी आखिरी फिल्म ‘उरोजहाज’ के हर फ्रेम में उनकी विशिष्टता एवं कविता की झलक थी। अलविदा, स्मृतियां गढ़ने वाले।’’

फिल्म में नडजर आए पारनो मित्रा ने भी ट्वीट किया, “आपके साथ ‘उरोजहाज’ में काम करना सम्मान की बात है।”

अभिनेत्री सुदीप्ता चौधरी ने कहा कि उनका सौभाग्य था कि वह फिल्मकार के साथ दो फिल्मों - “मोंदो मेयर उपाख्यान” और “कालपुरुष’’ में काम कर पाईं। इन फिल्मों में मिथुन चक्रवर्ती और राहुल बोस भी नजर आए थे।

बोस ने इंस्टाग्राम पर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं और “कालपुरुष” को अपने करियर की सबसे संतोषजनक फिल्म बताया।

अभिनेता ने कहा कि दासगुप्ता, “आधे कवि, आधे फिल्मकार थे” जिसकी झलक उनके सिनेमा में मिलती थी।

अभिनेता ने फिल्मकार को संवेदनशील, भावुक और “हास्य की शरारती भावना’’ से पूर्ण बताया और कहा कि वह शूटिंग तथा विभिन्न फिल्मोत्सवों में उनके साथ यात्रा के वक्त बिताए गए वक्त को बहुत याद करेंगे।

फिल्म निर्माता एवं पश्चिम बंगाल के विधायक राज चक्रवर्ती ने दासगुप्ता के निधन पर शोक प्रकट करते हुए लिखा, “कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय सम्मानों को पाने वाले, प्रसिद्ध फिल्म निर्माता एवं प्रख्यात कवि बुद्धदेब दासगुप्ता का निधन हो गया। उनके परिवार एवं मित्रों के प्रति हार्दिक संवेदनाएं।”

बॉलीवुड अभिनेता पंकज त्रिपाठी जिन्होंने दासगुप्ता के साथ “अनवर का अजब किस्सा’’ में काम किया था, कहा कि फिल्मकार के साथ उनका “बहुत शानदार एवं स्नेहपूर्ण संबंध” था।

अभिनेता ने कहा, “उनके साथ काम करना सीखने का शानदार अवसर था। वह सिनेमा के मास्टर थे। मुझे याद है कि हम सिनेमा के बारे में बहुत बातें करते थे। यह हम सबके लिए बहुत दुख का दिन है लेकिन उनका सिनेमा हमेशा हमारे बीच जीवित रहेगा।’’

देश

राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों के पास कोविड टीके की 1.89 करोड़ से अधिक अप्रयुक्त खुराकें उपलब्ध:सरकार

राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों के पास कोविड टीके की 1.89 करोड़ से अधिक अप्रयुक्त खुराकें उपलब्ध:सरकार

राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों के पास कोविड टीके की 1.89 करोड़ से अधिक अप्रयुक्त खुराकें उपलब्ध:सरकार

देश

रिलायंस जियो, गूगल का नया किफायती स्मार्टफोन 10 सितंबर से बाजार में उपलब्ध होगा

रिलायंस जियो, गूगल का नया किफायती स्मार्टफोन 10 सितंबर से बाजार में उपलब्ध होगा

रिलायंस जियो, गूगल का नया किफायती स्मार्टफोन 10 सितंबर से बाजार में उपलब्ध होगा

मुंबई

भद्दे कमेंट के बाद एक्ट्रेस प्रियंका पंडित ने साड़ी में फोटो की शेयर, लिखा ‘तुमने खुद को कमजोर मान रखा है वरना’

भद्दे कमेंट के बाद एक्ट्रेस प्रियंका पंडित ने साड़ी में फोटो की शेयर, लिखा ‘तुमने खुद को कमजोर मान रखा है वरना’

भद्दे कमेंट के बाद एक्ट्रेस प्रियंका पंडित ने साड़ी में फोटो की शेयर, लिखा ‘तुमने खुद को कमजोर मान रखा है वरना’

मुंबई

मां सुष्मिता सेन के साथ काम करना चाहती हैं रिनी सेन, कहा- ये मेरे लिए बहुत खुशी की बात होगी

मां सुष्मिता सेन के साथ काम करना चाहती हैं रिनी सेन, कहा- ये मेरे लिए बहुत खुशी की बात होगी

मां सुष्मिता सेन के साथ काम करना चाहती हैं रिनी सेन, कहा- ये मेरे लिए बहुत खुशी की बात होगी

जम्मू और कश्मीर

मैं बैठक में जा रहा हूं। वहां मैं मांगों को रखूंगा और फिर आपसे बात करूंगा।फारूक अब्दुल्ला

मैं बैठक में जा रहा हूं। वहां मैं मांगों को रखूंगा और फिर आपसे बात करूंगा।फारूक अब्दुल्ला

मैं बैठक में जा रहा हूं। वहां मैं मांगों को रखूंगा और फिर आपसे बात करूंगा।फारूक अब्दुल्ला


trending