Breaking news

  • दिल्ली: किसान प्रदर्शनकारी ट्रैक्टर रैली के लिए बुराड़ी के निरंकारी समागम ग्राउंड से टिकरी बॉर्डर के लिए रवाना हुए। एक प्रदर्शनकारी ने बताया, "हम टिकरी बॉर्डर जा रहे हैं, टिकरी बॉर्डर पर ट्राली खड़ी करके हम 26 जनवरी की ट्रैक्टर परेड की तैयारी करेंगे।"   
  • हमारे ​देश में जितने सड़क हादसे हो रहे हैं उससे देश की अर्थव्यवस्था में जीडीपी के 3% का नुकसान होता है। इसलिए इस राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का हर साल आयोजन महत्वपूर्ण है: राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के उद्घाटन कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह   
  • राजस्थान: राज्य में आज से 9वीं से 12वीं के छात्रों के स्कूल खुल गए हैं। जयपुर के महात्मा गांधी सरकारी स्कूल की प्रधानाचार्या ने बताया, "अभिभावकों की सहमति से बच्चों को बुलाया गया है।सरकार की गाइडलाइन है कि 10वीं और 12वीं के छात्र 9:30 बजे और 11वीं और 9वीं के छात्र 10 बजे आएंगे।"   
  • अहमदाबाद मेट्रो फेज-1 का कार्य जोर-शोर से चल रहा है, जून 2022 में जब देश स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा ये काम पूरा हो जाएगा:अहमदाबाद मेट्रो रेल परियोजना के दूसरे चरण और सूरत मेट्रो परियोजना के भूमि पूजन कार्यक्रम में केंद्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी   
  • भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी.नड्डा 21 से 22 जनवरी को उत्तर प्रदेश के लखनऊ का दौरा करेंगे और राज्य के नेताओं के साथ राज्य संगठन और सरकार पर चर्चा करेंगे: बीजेपी सूत्र   

देश

क्या सच में ज़्यादा ठंड में शराब पीना खतरनाक है

उत्तर भारत में शीतलहर  चलने की भविष्यवाणी के साथ ही मौसम विभाग ने सख्त हिदायत  दी कि ज़रूरत न होने पर घर से न निकलें, कंपकंपी को गंभीरता से लें और शराब न पिएं तो बेहतर... इस चेतावनी के हर पहलू को समझना ज़रूरी है

आम धारणा तो यही है कि सर्दियों के मौसम  में अल्कोहल या शराब का सेवन करने से शरीर में गर्मी आती है. जितनी ज़्यादा ठंड पड़ती है कुछ लोग मानते हैं कि उतनी ज़्यादा शराब पी जा सकती है. लेकिन आपको विज्ञान समझकर थोड़ा सतर्क होना चाहिए. खासकर उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड शुरू हो चुकी है, ऐसे मौसम में आपको शराब सेवन को लेकर सावधान रहना चाहिए. जानकारों ने भी हिदायत दी है कि अल्कोहल से दूर रहकर  आप ठंड के प्रकोप से बच सकते हैं.

क्या वाकई ज़्यादा ठंड के साथ ज़्यादा अल्कोहल सेवन की बात सही है? अगर हां, तो कैसे और क्यों लोग ठंड के मौसम में ज़्यादा शराब पीते हैं. इसके साथ यह भी जानिए कि क्या स​र्दी के असर को खत्म करने के लिए शराब पीना वाकई कारगर है.

हो सकता है कि कड़ाके की ठंड की रात में शराब पीने से आपको शरीर में गर्मी या राहत महसूस हो, लेकिन हकीकत यह है कि इससे आपके शरीर का तापमान कम होता है और इम्यूनिटी प्रभावित होती है. चकित्सा विाान में इस तरह के कई शोध हो चुके हैं जो बताते हैं कि शराब पीने से शरीर का कोर टेंप्रेचर कम हो जाता है और हाइपोथर्मिया का खतरा बढ़ता है.

गर्मी पैदा करने से पहले भीतर की गर्मी जब शरीर खो देता है, उस स्थिति को हाइपोथर्मिया कहते हैं, जिसका नतीजा कंपकंपी से लेकर सांस लेने में मुश्किल और लो ब्लड प्रेशर भी हो सकता है. चूंकि शरीर का सामान्य तापमान 37 डिग्री सेल्सियस तक होता है लेकिन शराब पीने के बाद अगर यह 35 डिग्री तक गिर जाता है तो बोलने और चलने में लड़खड़ाहट के साथ ही त्वचा ठंडी पड़ने लगती है.

DON'T MISS

हमदाबाद, दो जून गुजरात में चक्रवाती तूफान निसर्ग

DON'T MISS

देश में कोविड-19 के 20 हजार से कम नए मामले

देश

वैश्विक बाजारों की मंदी से सेंसेक्स 470 अंक टूटा, निफ्टी 14,300 अंक से नीचे

वैश्विक बाजारों की मंदी से सेंसेक्स 470 अंक टूटा, निफ्टी 14,300 अंक से नीचे

वैश्विक बाजारों की मंदी से सेंसेक्स 470 अंक टूटा, निफ्टी 14,300 अंक से नीचे

देश

रुपया 21 पैसे लुढ़ककर 73.28 रुपये प्रति डॉलर पर

रुपया 21 पैसे लुढ़ककर 73.28 रुपये प्रति डॉलर पर

रुपया 21 पैसे लुढ़ककर 73.28 रुपये प्रति डॉलर पर

महाराष्ट्र

मीडिया ट्रायल से न्याय देने की प्रक्रिया बाधित होती है: बंबई उच्च न्यायालय

मीडिया ट्रायल से न्याय देने की प्रक्रिया बाधित होती है: बंबई उच्च न्यायालय

मीडिया ट्रायल से न्याय देने की प्रक्रिया बाधित होती है: बंबई उच्च न्यायालय

मुंबई

ऋचा चड्ढा को मिल रही जान से मारने की धमकी, जीभ काटने पर रखा ईनाम

ऋचा चड्ढा को मिल रही जान से मारने की धमकी, जीभ काटने पर रखा ईनाम

ऋचा चड्ढा को मिल रही जान से मारने की धमकी, जीभ काटने पर रखा ईनाम

उत्तर प्रदेश

विधान परिषद चुनाव में भाजपा के विधायक भागने को तैयार : अखिलेश

विधान परिषद चुनाव में भाजपा के विधायक भागने को तैयार : अखिलेश

विधान परिषद चुनाव में भाजपा के विधायक भागने को तैयार : अखिलेश


trending