Breaking news

  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में भारत में #COVID19 के 15,981 नए मामले सामने आए। इस दौरान 17,861 लोग डिस्चार्ज हुए और 166 लोगों की मृत्यु दर्ज़ की गई। कुल मामले: 3,40,53,573 सक्रिय मामले: 2,01,632 कुल डिस्चार्ज: 3,33,99,961 कु मृत्यु : 4,51,980   
  • दिल्ली में AICC दफ़्तर में कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू हो गई है। इस दौरान बैठक में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी भी मौज़ूद दिखें।   
  • 15 अक्टूबर तक पूरे देश में #COVID19 के 58,98,35,258 सैंपलों का परीक्षण किया गया। कल देश में 9,23,003 सैंपल की जांच की गई।   
  • संयुक्त मोर्चा ने अपना बयान जारी कर दिया है, कानून अपना काम करेगा। हमारा इस तरह की घटना से कोई मतलब नहीं है: हरियाणा के कुंडली में एक व्यक्ति का शव मिलने पर राकेश टिकैत, भारतीय किसान यूनियन ।   
  • श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि आज विजयदशमी के दिन विधि-विधान पंचांग गणना के पश्चात तय की गई। बद्रीनाथ के कपाट 20 नवम्बर को शाम 6:45 पर बंद होंगे।   

देश

मकर संक्रांति के दिन विशेष रूप से खाने में खिचड़ी बनाई जाती है. इसे प्रसाद के रूप में भी ग्रहण किया जाता है

देशभर में मकर संक्रांति के पावन पर्व को धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन लोग सुबह उठकर नदी तट पर जाते हैं. कल 14 जनवरी को मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाएगा. इस दिन लोग स्नान कर भगवान सूर्य की उपासना करते हैं. मकर संक्रांति के दिन दान पुण्य करने को भी शुभ माना जाता है. मकर संक्रांति के दिन विशेष रूप से खाने में खिचड़ी बनाई जाती है. इसे प्रसाद के रूप में भी ग्रहण किया जाता है. खिचड़ी को सबसे शुद्ध खाना भी माना जाता है. इसमें चावल, दाल और तरह-तरह की सब्जियों का मिश्रण होता है.

 

जानिए इस दिन क्यों बनाई जाती है खिचड़ी : मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी खाने की परंपरा सालों से चली आ रही है. कहा जाता है कि खिलजी के आक्रमण के दौरान नाथ योगियों के पास खाने के लिए कुछ नहीं था. तब बाबा गोरखनाथ ने दाल, चावल और हरी सब्जियों को एक साथ पकाने की सलाह दी थी. तबसे इस दिन खिचड़ी को खाने और बनाने का रिवाज चला आ रहा है. खिचड़ी को पौष्टिक आहार के रूप में भी ग्रहण किया जाता है. मकर संक्रांति के दिन जगह जगह खिचड़ी का भोग चढ़ाया जाता है. इस दिन बाबा गोरखनाथ मंदिर में भी खिचड़ी का भोग लगाया जाता है.

 

मकर संक्रांति पर होता है पुण्य काल का विशेष महत्व :मकर संक्रांति पर पुण्य काल का विशेष महत्व होता है. ऐसी मान्यता है कि पुण्य काल में पूजा और दान आदि के कार्य करने से मकर संक्रांति का पूर्ण लाभ प्राप्त होता है. मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव प्रात: 8 बजकर 20 मिनट के करीब धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेंगे. पंचांग के अनुसार मकर संक्रांति का पुण्यकाल सूर्यास्त तक बना रहेगा.

दिल्ली

सिंघु बॉर्डर पर ‘लिंचिंग’ की घटना के बाद विरोध स्थलों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे: किसान नेता

सिंघु बॉर्डर पर ‘लिंचिंग’ की घटना के बाद विरोध स्थलों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे: किसान नेता

सिंघु बॉर्डर पर ‘लिंचिंग’ की घटना के बाद विरोध स्थलों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे: किसान नेता

गुजरात

रामजन्मभूमि की तीर्थयात्रा करने वाले आदिवासियों को देंगे पांच हजार रुपये की सहायता : गुजरात सरकार

रामजन्मभूमि की तीर्थयात्रा करने वाले आदिवासियों को देंगे पांच हजार रुपये की सहायता : गुजरात सरकार

रामजन्मभूमि की तीर्थयात्रा करने वाले आदिवासियों को देंगे पांच हजार रुपये की सहायता : गुजरात सरकार

जम्मू और कश्मीर

रतन लाल गुप्ता जम्मू के लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रांतीय अध्यक्ष चुने गए

रतन लाल गुप्ता जम्मू के लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रांतीय अध्यक्ष चुने गए

रतन लाल गुप्ता जम्मू के लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रांतीय अध्यक्ष चुने गए

जम्मू और कश्मीर

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता अब्दुल रहीम राठेर के बेटे हिलाल राठेर पीपुल्स कांफ्रेंस में शामिल

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता अब्दुल रहीम राठेर के बेटे हिलाल राठेर पीपुल्स कांफ्रेंस में शामिल

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता अब्दुल रहीम राठेर के बेटे हिलाल राठेर पीपुल्स कांफ्रेंस में शामिल

देश

डब्ल्यूबीबीएल: हरमनप्रीत, रॉड्रिग्स चमके; मंधाना, दीप्ति का निराशाजनक प्रदर्शन

डब्ल्यूबीबीएल: हरमनप्रीत, रॉड्रिग्स चमके; मंधाना, दीप्ति का निराशाजनक प्रदर्शन

डब्ल्यूबीबीएल: हरमनप्रीत, रॉड्रिग्स चमके; मंधाना, दीप्ति का निराशाजनक प्रदर्शन


trending