Breaking news

  • 12 निलंबित विपक्षी सांसद राज्यसभा के सभापति को अपने निलंबन को निरस्त करने के लिए पत्र लिखेंगे। सभी निलंबित सांसद कल संसद में गांधी प्रतिमा के समक्ष धरना देंगे।   
  • अखिल भारतीय महिला कांग्रेस (AIMC) के सदस्यों ने महंगाई के खिलाफ़ और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ़ प्रदर्शन किया।   
  • राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने 12 सांसदों के निलंबन को रद्द करने के अनुरोध को खारिज कर दिया।   
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में राजनाथ सिंह, अमित शाह और नरेंद्र सिंह तोमर सहित शीर्ष मंत्रियों के साथ जारी शीतकालीन सत्र की रणनीति पर चर्चा के लिए एक बैठक की।   
  • भारत में पिछले 24 घंटों में 6,990 नए कोविड मामले सामने आए, 190 मौतें और 10,116 रिकवरी दर्ज़ की गई। सक्रिय मामलों का आंकड़ा 1,00,543 पर है: स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय आज सुबह 8 बजे तक कोविड वैक्सीनेशन का कुल आंकड़ा 1,23,25,02,767 पर पहुंच गया है।   

विदेश

आपका बच्चा मोटा तो नहीं, गंभीर कोविड होने का खतरा

सिडनी : बच्चों को कोविड-19 से बचाव का टीका लगे, इसके लिए माता-पिता फिक्रमंद हैं। अब आस्ट्रेलिया में 12 साल या उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए वैक्सीनेशन शुरू हुआ है और नियामक पांच से 11 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन के बारे में भी गंभीर रूप से विचार कर रहे हैं। ऐसे में बहुत से माता-पिता अपने बच्चों के टीकाकरण के फायदे और नुकसान के बारे में सोच रहे होंगे।

ऐसे में अधिक वजन एक महत्वपूर्ण कारक प्रतीत होता है जो बच्चों सहित सभी में कोविड-19 के गंभीर बीमारी की ओर बढ़ने की आशंका को बढ़ाता है।

फिर भी अधिक वजन वाले या मोटे बच्चों के लिए टीकाकरण के फायदों पर अधिक ध्यान नहीं दिया गया है।

सबूत क्या कहते हैं?

एक बच्चे में अधिक वजन और मोटापे को परिभाषित करना उनके वजन और ऊंचाई (उनके बॉडी मास इंडेक्स या बीएमआई) पर आधारित होता है। बच्चों में स्वास्थ्य के अधिकांश पहलुओं की तरह, उनके बढ़ने और विकसित होने के साथ-साथ उनके बदलने की संभावना रहती है।

कई अध्ययनों से पता चला है कि अधिक वजन और मोटापे से ग्रस्त बच्चों और युवाओं के अस्पताल जाने या कोविड-19 से गंभीर रूप से अस्वस्थ होने की आशंका अधिक होती है।

अमेरिका में 18 वर्ष से कम उम्र के अस्पताल में भर्ती 43,000 से अधिक बच्चों के एक बड़े अध्ययन ने मुख्य रूप से उन स्थितियों पर प्रकाश डाला, जिससे एक बच्चे को कोविड के साथ अस्पताल में भर्ती होने की संभावना बढ़ गई, वह थी मधुमेह और मोटापा।

यदि कोविड होने पर अस्पताल में भर्ती कराया जाता है, तो मधुमेह, मोटापा या हृदय रोग होने से गंभीर बीमारी का खतरा बढ़ जाता है जिसके लिए गहन देखभाल की आवश्यकता होती है।

कनाडा, ईरान और कोस्टा रिका के बच्चों में 400 से अधिक कोविड मरीजों के हालिया अध्ययन से पता चला है कि मोटापा गंभीर कोविड ​​​​-19 से जुड़ा था, विशेष रूप से 12 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में। मोटापा एकमात्र मुख्य स्वास्थ्य स्थिति थी जिसने इस आयु वर्ग में गंभीर कोविड-19 के जोखिम को बढ़ाया (तीन गुना)) ।

ऑस्ट्रेलिया में, दो-तिहाई बच्चे जिन्हें कोविड के लिए आईसीयू- स्तर की देखभाल की आवश्यकता होती है, उनका वजन अधिक होता है।

वजन इतना अधिक महत्वपूर्ण क्यों है?

यह बिल्कुल स्पष्ट नहीं है, लेकिन ऐसा लगता है कि अधिक वजन और मोटापा विशेष रूप से इस बात को प्रभावित करता है कि संक्रमण में हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली वायरस को शुरूआत में ही कितनी अच्छी तरह नियंत्रित कर सकती है।

वयस्कों में भी मोटापा गंभीर कोविड-19 के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक है। यह तथाकथित चयापचय सिंड्रोम में अक्सर मधुमेह, उच्च रक्तचाप और अन्य बीमारियों के साथ होता है। ये सभी बीमारियां अधिक गंभीर कोविड से जुड़ी हैं और इसी तरह खराब विनियमित प्रतिरक्षा प्रतिक्रियाओं से जुड़ी हैं।

मोटापे का एक यांत्रिक प्रभाव भी हो सकता है, जिसमें मोटापा छाती की दीवार की गति को सीमित करता है जिससे तनाव के समय फेफड़ों की गतिविधि और वायुमार्ग का आकार कम हो जाता है।

मोटापा गंभीर इन्फ्लूएंजा के लिए भी एक प्रमुख जोखिम कारक है, संभावित रूप से कुछ समान तंत्रों के कारण।

हम इसके बारे में क्या कर सकते हैं?

माता-पिता को पता होना चाहिए कि उनके बच्चे का वजन गंभीर कोविड के जोखिम को प्रभावित कर सकता है। माता-पिता को भी टीकाकरण सहित कोविड की रोकथाम के बारे में अपने परिवार के निर्णयों में अपने और अपने बच्चों के वजन को शामिल करना चाहिए। यदि आप या वे अधिक वजन वाले हैं, तो टीके कोविड से सर्वोत्तम सुरक्षा प्रदान करते हैं।

अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे का वजन अधिक हो सकता है, तो अपने जीपी से बात करें और परिवार की शारीरिक गतिविधि, स्क्रीन टाइम, सोने और खाने के व्यवहार में कुछ बदलाव करने पर विचार करें।

टीकाकरण प्राथमिकताओं के आसपास राष्ट्रीय निर्णय लेने में मोटापे को भी शामिल करने की आवश्यकता है। जब पहली बार 12-15 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए टीके उपलब्ध कराए गए थे, तो कई स्वास्थ्य स्थितियों को ‘‘गंभीर कोविड-19 के बढ़ते जोखिम से जुड़ी स्थितियों’’ के रूप में सूचीबद्ध किया गया था। इसमें गंभीर मोटापे का जिक्र था, लेकिन उसे सूची में स्थान नहीं दिया गया था, इसलिए वजन पर बहुत कम ध्यान दिया गया।

सभी अनुशंसित समूहों में, जिन्हें टीका लगाया जाना चाहिए, मोटापे से ग्रस्त लोगों को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए, क्योंकि यह गंभीर कोविड के उच्चतम जोखिम वाले कारकों में से एक है।

माता-पिता को टीकाकरण के बारे में निर्णय लेने में एक महत्वपूर्ण मुद्दे के रूप में अपने और अपने बच्चों के वजन के बारे में पता होना चाहिए।

स्वास्थ्य चिकित्सकों और नीति निर्माताओं को वर्तमान और भविष्य के टीका कार्यक्रमों में स्वास्थ्य की स्थिति के रूप में अतिरिक्त वजन और मोटापे को प्राथमिकता देनी चाहिए।

इसके बारे में बात करना असहज हो सकता है, लेकिन वजन एक महत्वपूर्ण कारक है जो बच्चों में भी कोविड को बदतर बना देता है। हमें इसके बारे में बात करने की आवश्यकता है ताकि माता-पिता अपने बच्चे के जोखिम और टीकाकरण के लाभों के बारे में उचित निर्णय ले सकें।
 

लखनऊ

ओमीक्रोन से निपटने में उत्तर प्रदेश सक्षम : डॉ धीमान

ओमीक्रोन से निपटने में उत्तर प्रदेश सक्षम : डॉ धीमान

ओमीक्रोन से निपटने में उत्तर प्रदेश सक्षम : डॉ धीमान

पश्चिम बंगाल

फिलहाल दक्षिण अफ्रीका दौरा बरकरार, हमारे पास फैसला करने के लिए समय है: गांगुली

फिलहाल दक्षिण अफ्रीका दौरा बरकरार, हमारे पास फैसला करने के लिए समय है: गांगुली

फिलहाल दक्षिण अफ्रीका दौरा बरकरार, हमारे पास फैसला करने के लिए समय है: गांगुली

दिल्ली

विज्ञान, भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत को आजादी दिलाने और इसे बनाए रखने में मदद की: सिंह

विज्ञान, भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत को आजादी दिलाने और इसे बनाए रखने में मदद की: सिंह

विज्ञान, भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत को आजादी दिलाने और इसे बनाए रखने में मदद की: सिंह

मुंबई

धर्मेंद्र ने शेयर की 'रॉकी और रानी की प्रेम कहानी' के सेट से BTS फोटो

धर्मेंद्र ने शेयर की 'रॉकी और रानी की प्रेम कहानी' के सेट से BTS फोटो

धर्मेंद्र ने शेयर की 'रॉकी और रानी की प्रेम कहानी' के सेट से BTS फोटो

मुंबई

संजीदा शेख ने एक बार फिर ब्रालेट पहनकर बढ़ाया इंटरनेट का पारा

संजीदा शेख ने एक बार फिर ब्रालेट पहनकर बढ़ाया इंटरनेट का पारा

संजीदा शेख ने एक बार फिर ब्रालेट पहनकर बढ़ाया इंटरनेट का पारा


trending